#52 हिन्दुस्तान
hindustan india bharat

#52 हिन्दुस्तान

फतवे लगते हैं तो लगनें दो ।

मुझे गुरेज नहीं ठेकेदारों से,
नहीं परवाह मुझे कौम किरदारों से,
मैं हिन्दुत्व पर भी चाहे गर्व न करूं,
पर परहेज नहीं भारत जय के नारों से।

कुछ जन्म से कहते खुद को वासी,
कुछ कहते वासी खुद को इच्छा से,
मैं दिल से भारतवासी हूं,
दिल गूंजता है भारत के जयकारों से।

सीखा है आदर सम्मान की भाषा,
छोंड धर्म का चश्मा सब सींखेंगे है आशा,
निज हित निज स्वारथ और लालच,
बच के रहना दिल के इन गद्दारों से।

ऐ जमी तू जल मुझे चलनें से परहेज नहीं,
गर जलेगी दुनिया संग मुझे जलनें से परहेज नहीं,
आजादी को जाति धर्म की खूब लडी लडाई,
खूब सीख मिली है देश की सरकारों से।

बहन बेटी जब जलती मरतीं दरिंदे खुले आम घूमते हैं,
घर बैठे सारे प्रबुद्धजन देख के टीवी बस उफ करते हैं,
बेटी को शिक्षा दे दो चंगा बेटों को मत वंचित करो,
गर बेटा दरिंदा है तो चुनवा दो उन्हें दीवारों से ।

 

 

 


–>सम्पूर्ण कविता सूची<–


Facebook page link

बखानी हिन्दी कविता के फेसबुक पेज को पसंद और अनुसरण (Like and follow) जरूर करें । इसके लिये नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक करें- Bakhani, मेरे दिल की आवाज – मेरी कलम collection of Hindi Kavita Like and

Youtube chanel link

subscribe Youtube Chanel Bakhani hindi kavita मेरे दिल की आवाज मेरी कलम

 

कविता को https://www.youtube.com पर मेरे चैनल में भी देख सकते हैं-

हिंदी कविता का अमर उजाला काव्य में प्रकाशन

कविता अमर उजाला के काव्य सेक्शन में चयनित की गयी है।  जिसका लिंक  है https://www.amarujala.com/kavya/mere-alfaz/bakhani-hindi-hindustan “हिन्दुस्तान ” पर हिन्दी कविता

Hindi poem on hindustan

This poem on hindustan explains the thought about the current situation arises here in country INDIA. Hindustan is now on trouble. everyone. 

इस हिंदी कविता के माध्यम से मजहबी भेदभावों को परे रख देश को सर्वोच्च प्राथमिकता देनें की बात कहनें का एक प्रयास किया गया है ।

0 0 votes
Article Rating
Total Page Visits: 2850 - Today Page Visits: 1
Subscribe
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
shamsul
shamsul
1 year ago

well donw dude….. very good

jk namdeo

मैं समझ से परे। एकान्त वासी, अनुरागी, ऐकाकी जीवन, जिज्ञासी, मैं समझ से परे। दूजों संग संकोची, पर विश्वासी, कटु वचन संग, मृदुभाषी, मैं समझ से परे। भोगी विलासी, इक सन्यासी, परहित की रखता, इक मंसा सी मैं समझ से परे।