a Hindi poems written in hindi means hindi kavita.

#60 कोरोना से क्या सीखे हम ?

जब से जग में कोरोना महामारी आई,सारे जग में खूब तबाही मचाई,जन जन त्रस्त घरों में कैद,कोरोना वारियर्स लडने को मुस्तैद,हर हाल जन जन लड रहा है,रह दूर अपने नित्य…

0 Comments

#59 नाद

प्रेयसी के कंगन, भौरों की गुंजन, कोयलों की कुंजन, खिला हुआ उपवन, हर्षित हुआ ये मन, नदियों की कल-कल, बच्चों की चहल-पहल, वृक्षों का फल, सुर-सरि का बहता हुआ, संगम…

0 Comments

Palayan #58 पलायन

A hindi poem on corona palayan आशियाना संभालनें, आशियाना छोंड कर निकले, फैली महामारी ऐसी कि, आशियाने की ओर निकले । जिस विज्ञान का गुरूथ था, मेहनत का शुरूर था,…

0 Comments
#57 एहसास feeling
poem on feeling

#57 एहसास feeling

लफ्जों का दौर बीत गया, रह गया एहसास, छोंड भविष्य की अविरल चिन्ता, और करिये इक एहसास । बिना धूल की धूप का, बिना पहिए की रोड का, बिना आफिस…

0 Comments
#55 चित- मन का लहरी
chit man ka lahari

#55 चित- मन का लहरी

A hindi poem on heart and mind मन का लहरी सज संवर कर, स्वच्छन्द जहां विचरण करता, सार्वभौम जो सत्य जहां पर, जाने कौन कब कैसे तरता, चलते फिरते खडे…

0 Comments
#54 दिल्ली दंगा Delhi roits
Delhi Dange February 2020

#54 दिल्ली दंगा Delhi roits

A Hindi Poem on Delhi काश्मीर से हटी क्या धारा तीन सौ सत्तर, भडकाकर लोगों को दिल्ली पर बरसा दिया पत्थर, जमाना बेबाक निष्ठुर ढंग से देखता रह गया, और…

0 Comments
#53 स्मृति Memory
poem on memory

#53 स्मृति Memory

Hindi Poem on Memory क्यों स्मृति यूँ सताती। जग में न कोई वैरी दूजा, पल में रुलाती पल में हसाती, पल में मजबूर सोंचनें को करती, हर पल यह एहसास…

0 Comments
#52 हिन्दुस्तान
hindustan india bharat

#52 हिन्दुस्तान

फतवे लगते हैं तो लगनें दो । मुझे गुरेज नहीं ठेकेदारों से, नहीं परवाह मुझे कौम किरदारों से, मैं हिन्दुत्व पर भी चाहे गर्व न करूं, पर परहेज नहीं भारत…

1 Comment
#51 स्वागत 2020
Happy New year 2020

#51 स्वागत 2020

साल का दिन आखिरी था,खयालों में खो के बिताया है, जो साल भर संग हुआ, सोंचा क्या खोया क्या पाया है। अभी कुछ पलों के बाद, ईशवी सन नया आयेगा,…

0 Comments
#49 ऐसा अपना हिन्दुस्तान
hindustan india bharat

#49 ऐसा अपना हिन्दुस्तान

फन फैलाए खडा पाक है,ड्रैगन लेवै ऊंची उडान,बाहर भीतर से फैला डर,फिर भी ऊंचा सर देखो शान,पक्ष विपक्ष हाहाकार हरदम,हर नेक काज के बुरे बखान,मार पडे चाहे चोंट पडे,न दिखे…

0 Comments