poem on desire
dil ke armaan a hindi poem on desire

#7- अरमान

हम तो तनहा दूर ही थे तुमसे,
बस दिल में पास आने के अरमान जागे तो थे,
रह गए इतने पीछे हम वक़्त,
बेवक़्त  कदम मिलाने को भागे तो थे।
बिछड़ जाने के डर नें जकड रखा था,
डर से निकलनें को यूँ क्या करता अकेला,
जीत दिल के डर को भांप कर,
समन्दर के उथले किनारों को झांके तो थे।
समन्दर की लहरों में ताकत वो थी,
जीतनें को उस डर से भीगे तो थे।
राहों में यूँ बढ़ कर पीछे रह गए,
दिल में अरमान संग चलनें के थे,
कोशते हैं खुद को हम पीछे,
तुम बस थोडा आगे तो थे।
हम तो तनहा दूर ही थे तुमसे,
बस दिल में पास आनें के अरमान जागे तो थे।

#bakhani
#hindi poems

 


<<–#6 क्या मुझे हक नहीं ?

सम्पूर्ण कविता सूची

#8 स्वार्थ ->>


Explanation of the poem on desire

This hindi kavita on desire express the thoughts to stay and move with partner while he or she is just a step ahead.

 

my facebook page link – Bakhani, मेरे दिल की आवाज – मेरी कलम collection of Hindi Kavita

(Desires)

Poem on Desire in Hindi

poem on desire in hindi or Armaan is a poem expressing the thoughts. अरमान दिल की तमन्ना को व्यक्त करती एक हिन्दी कविता है –
0 0 votes
Article Rating
Total Page Visits: 2085 - Today Page Visits: 1
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

jk namdeo

मैं समझ से परे। एकान्त वासी, अनुरागी, ऐकाकी जीवन, जिज्ञासी, मैं समझ से परे। दूजों संग संकोची, पर विश्वासी, कटु वचन संग, मृदुभाषी, मैं समझ से परे। भोगी विलासी, इक सन्यासी, परहित की रखता, इक मंसा सी मैं समझ से परे।