#55 चित- मन का लहरी
A hindi poem on heart and heart listener expressing the thought how HEART and mind want to travel fearless.

#55 चित- मन का लहरी

  मन का लहरी सज संवर कर, स्वच्छन्द जहां विचरण करता, सार्वभौम जो सत्य जहां पर, जाने कौन कब कैसे तरता, चलते फिरते खडे खडे यूं, बातों बातों अन्तिम मंजिल…

0 Comments