the target

#32-मंजिल क्या है
poem on savan for nature

#32-मंजिल क्या है

ऐ पवन ! ठहर जरा, बता तेरी मंजिल क्या है? क्या तू कभी सोंचता है, तेरे भाग्य लिखा क्या है? ऐ सूरज! तू ठहर जरा, क्यों बार-बार गुजरता है तेरी…

0 Comments