Skip to content

Month: April 2019

#39-कवि

शब्दों को पिरोना और गूंथ देना एक माले की तरह । आसां नहीं है इस जग में, यूं शब्दों से छेंड-छांड करना,अनर्गल सी लगती हैं…