#6-क्या मुझे हक़ नहीं?
Bakhani Hindi Poems

#6-क्या मुझे हक़ नहीं?

ज़िन्दगी के पहलू क्यूँ इतने उलझे से लगते है? क्या चेताती आसमान से गिरती वो आग कश्मीर में, क्यों आखिर किसी हुद – हुद  का डर यूँ सता रहा है,…

1 Comment