Skip to content

बखानी

सम्पूर्ण कविताओं को ब्लाग पोस्ट के रूप में पढनें के लिये क्लिक करें

बखानी का तात्पर्य है ब्याख्या । विचारों की व्याख्या हिन्दी साहित्य में कई प्रकारों से होती है । जैसे कहानी, उपन्यास, कथा, नाटक, पद्य, गद्य, कविता, श्लोक, आदि आदि । हिन्दी कविता तो रस छन्द अलंकार आदि का मिश्रित रूप है । मनोभावों को प्रकट करने के लिये ये सभी माध्यम हैं । मूल तात्पर्य तो मनोभावों को प्रकट करना है वो चाहे कहानी, उपन्यास आदि के रूप में या फिर हिन्दी कविता के रूप में ।.

सम्पूर्ण कविताओं को ब्लाग पोस्ट के रूप में पढनें के लिये क्लिक करें

 

COLLECTION OF BAKHANI
#53 स्मृति
#52 मोबाइल रेट मंहगे #51 HAPPY NEW YEAR 2020
#50 मोबाइल रेट मंहगे #49 ऐसा अपना हिन्दुस्तान
#48 हैप्पी दीवाली #47 कटी पतंग सी कहानी मेरी
#46 पुष्प और मोहब्बत #45 आओ चलें प्रकृति की ओर
#44 हिन्दी में भी जीवन दिखता है #43 नया कानून और मजबूरी
#42 हैलो हैलो #41 सुहाना सावन
#40 भागे तो थे #39 कविः- एक परिभाषा
#38 तो गुस्सा आता है #37 राज की राजनीति
#36 बेरोजगारी #35 सच्चाई क्या है?
#34 जीवन संघर्ष #33 पुलिस क्या है?
#32 मंजिल क्या है? #31 पुलिस पर विश्वास
#30 शांत तो अच्छे #29 ढूंढते रह जाओंगे
#28 बेचैन भ्रमण #27 फेसबुक जिन्दगी
#26 देश की बेटी #25 क्या हम आजाद हैं?
#24 रेत का दरिया #23 बुन्देलखण्ड
#22 ओ मां #21 दृढ बनो
#20 किसान और प्रकृति #19 हैप्पी होली
#18 गौरैया कहां गई तू? #17 महिला सशक्तिकरण
#16 गुण्डागर्दी #15 हमारी आश
#14 क्यों न लगे बोझ बेटियां? #13 ऐ प्रकृति मैं तुझे संभालूं
#12 एक कदम दुनिया को #11 एक तरकीब
#10 शरद बखानी #9 खयाली पुलाव
#8 स्वार्थ #7 अरमान
#6 क्या मुूझे हक नहीं #5 विज्ञान एक अभिशाप
#4 क्या हम आजाद हैं #3 बखानी एक परिचय
#2 मन अशान्त पक्षी का कलरव #1 मां
   

 

Total Page Visits: 859 - Today Page Visits: 9